February 7, 2023

क्यों मिले बिहार को विशेष राज्य का दर्जा? बीजेपी ने नीतीश सरकार को आंकड़ों के साथ घेरा

पटना

बिहार को विशेष राज्य देने की मांग को लेकर एक बार फिर से सूबे में बीजेपी और जेडीयू के बीच जुबानी जंग तेज हो गई है। बिहार बीजेपी के अध्यक्ष  संजय जायसवाल ने इस मुद्दे पर सोमवार को फेसबुक पर एक पोस्ट शेयर किया है। अपनी पोस्ट में संजय जायसवाल ने पांच प्वाइंट में बताया है कि 2020 में एनडीए सरकार का गठन आत्मनिर्भर बिहार के 7 निश्चय के आधार पर हुआ था। इसलिए हमें इस मूल मुद्दे से भटकना नहीं चाहिए।

बता दें कि लोकसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर चर्चा के दौरान जेडीयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह ने एक बार फिर यह मांग उठाई। जेडीयू की इस मांग पर अब तक कुछ खास रुख नहीं दिखा रही बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल ने इसका विरोध किया है। संजय जायसवाल ने अपने पोस्ट में लिखा है कि केंद्र बिहार सरकार का पूरा सहयोग कर रही है लेकिन प्रदेश सरकार ही अपनी असफलताओं की वजह से राज्य का विकास नहीं कर पा रही है।

अपने पोस्ट के जरिये संजय जायसवाल ने कहा है कि महाराष्ट्र की आबादी बिहार से एक करोड़ ज्यादा है, फिर भी बिहार को महाराष्ट्र के मुकाबले 31 हजार करोड़ रुपए ज्यादा मिलते हैं। बंगाल भी बिहार की भांति पिछड़ा राज्य है पर उसके मुकाबले भी बिहार को 21 हजार करोड़ रुपए ज्यादा मिलता हैं। दक्षिण भारत के राज्यों की हमेशा शिकायत रहती है कि केंद्र सरकार हमें कम पैसे देती है क्योंकि हमने आबादी को 70 के दशक में ही केंद्र की नीतियों के कारण रोक लिया था। अब केंद्र सरकार इसको अपराध मानती है।

प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष ने अपने पोस्ट में नीतीश सरकार पर यह भी आरोप लगाया है कि 6 वर्षों में भी प्रधानमंत्री जी के दिए हुए पैकेज का पूरा इस्तेमाल नहीं कर पाए हैं( उन्होंने लिखा कि अभी भी 10,000 करोड़ रुपए से ज्यादा बकाया है। एक छोटा उदाहरण मेरे लोकसभा का रक्सौल हवाई अड्डा है, जिसके लिए प्रधानमंत्री पैकेज में 250 करोड़ रुपए मिल चुके हैं पर बिहार सरकार द्वारा अतिरिक्त जमीन नहीं देने के कारण आज भी यह योजना रुकी हुई है। प्रधानमंत्री गति शक्ति योजना में भी बिहार को हजारों करोड़ रुपए मिलने हैं। अगर हमने भूमि उपलब्ध नहीं कराया तो ये किस्से कहानियों की बातें हो जाएंगी।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.