February 7, 2023

विप चुनाव: RJD ने कांग्रेस को नहीं दी हिस्‍सेदारी, वामदल को एक सीट, तय किए 23 उम्‍मीदवारों के नाम

पटना

राजद ने साफ कर दिया है कि निकाय कोटे से होने वाले विधान परिषद चुनाव में वह कांग्रेस को हिस्सेदारी नहीं देगा। वाम दल के लिए उसने एक सीट छोड़ दिया है। शेष सभी 23 सीटों के लिए अधिसंख्य उम्मीदवारों का नाम तय कर दिया है।

पार्टी ने सोमवार को सभी सीटों के उम्मीदवारों की घोषणा करने का फैसला किया था, लेकिन अब राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक के पहले 8 फरवरी को उम्मीदवारों की घोषणा की जाएगी। परिषद के लिए होने वाले चुनाव के लिए राजद ने अपने एक दर्जन उम्मीदवारों के नाम बहुत पहले ही तय कर लिया था। अब दूसरे उम्मीदवारों के भी नाम तय हो गये हैं। दो-तीन सीटों को लेकर पेच अभी फंसा है। सबसे ज्यादा पचड़ा नवादा को लेकर है। हालांकि पार्टी ने अभी किसी भी उम्मीदवार के नाम की आधिकारिक तौर से घोषणा नहीं की है लेकिन राजद ने अपने अधिसंख्य उम्मीदवारों को चुनाव प्रचार में लगने की हरी झंडी दे दी है। जिन उम्मीदवारों के नाम अब तक सामने आये हैं उनमें कुछ सीटों पर कांग्रेस भी अपनी दावेदारी कर रहा था। लेकिन बात नहीं बनी। उधर माले ने भाजपा को हराने के नाम पर राजद को लगभग स्वतंत्र छोड़ दिया है। दोनों दलों के बीच बात हो चुकी है। अलबत्ता एक सीट सीपीआई के लिए राजद छोड़ेगा। यह पार्टी भागलपुर-बांका से संजय यादव को उम्मीदवार बनाएगी।

राजद ने जिन उम्मीदवारों का नाम तय किया है उनमें वैशाली से सुबोध कुमार, औरंगाबाद से अनुज कुमार सिंह, गया से रिंकू यादव, मुंगेर से अजय सिंह, भोजपुर से अनिल सम्राट, पश्चिमी चंपारण से इंजीनियर सौरभ कुमार, रोहतास से कृष्ण कुमार सिंह, दरभंगा से उदय शंकर यादव, सीवान से विनोद जायसवाल, नवादा से श्रवण कुमार, पूर्वी चम्पारण से बबलू देव, छपरा से सुधांशु रंजन पांडेय, गोपालगंज से दिलीप सिंह, पटना से कार्तिक कुमार, कोसी से डॉ. अजय कुमार सिंह, सीतामढ़ी से खबू खिरहर, मधुबनी से मिराज आलम और बेगूसराय खगड़िया से मनोहर यादव शामिल हैं।

आज मंथन करेगी कांग्रेस

स्थानीय निकाय की 24 सीटों के लिए होने वाले विधान परिषद चुनाव में उम्मीदवारों के चयन में कांग्रेस ने कवायद शुरू कर दी है। पार्टी के प्रदेश सह प्रभारी वीरेन्द्र सिंह राठौड़ दो दिवसीय बिहार दौरे पर आ रहे हैं। इन दो दिनों में वे पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के साथ उम्मीदवारों के नामों पर मंथन करेंगे। उम्मीद है कि इस बैठक में ही आधा दर्जन से अधिक उम्मीदवारों के नाम तय हो जाएं।

पार्टी नेताओं के अनुसार वीरेन्द्र सिंह राठौड़ प्रदेश अध्यक्ष डॉ. मदन मोहन झा, विधानमंडल दल के नेता अजीत शर्मा आदि के साथ बैठक करेंगे। पार्टी नेताओं से वे विप चुनाव के लिए उम्मीदवारों के नामों पर चर्चा करने के साथ ही उनसे सुझाव भी मांगेंगे। चूंकि पार्टी पहले छह-सात सीटों पर चुनाव लड़ने की रणनीति बनाई थी। इसलिए संभव है कि इन दो दिनों में ही छह-सात सीटों पर उम्मीदवारों के नामों की अंतिम सहमति बन जाए ताकि उस पर आलाकमान की मुहर लग सके। इसके बाद आने वाले दिनों में सभी सीटों के लिए एक या दो उम्मीदवारों के नाम का चयन किया जाएगा। कांग्रेस विधायक दल के नेता अजीत शर्मा ने कहा कि राजद ने अंतिम समय में गठबंधन नहीं करने का ऐलान कर धोखा दिया है। लेकिन इस घटना से हमें सबक मिली है।

पार्टी अपने दम पर चुनाव मैदान में उतरेगी। राजद केवल बिहार में है लेकिन कांग्रेस पूरे देश में है। भाजपा को टक्कर देने का माद्दा कांग्रेस ही रखती है, बावजूद इसके पार्टी ने तेजस्वी को सीएम कैंडिडेट माना था। बयानबाजी करने वाले राजद नेता जान लें कि आजादी की लड़ाई में उनका योगदान नहीं, कांग्रेस का ही है। हम अपने जनाधार के बल पर सभी विप सीटों पर जीत हासिल करेंगे। चूंकि इस चुनाव में जनता के चुने हुए प्रतिनिधि वोट देते हैं। ऐसे में जनता दबाव बनाएगी कि जनप्रतिनिधि भाजपा को टक्कर देने वाली कांग्रेस को ही मत दें।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.