September 29, 2022

Ukraine Russia War: 249 भारतीयों को लेकर दिल्ली पहुंची एअर इंडिया की 5वीं फ्लाइट, 240 नागरिकों के साथ छठी रवाना

नई दिल्ली

एअर इंडिया की पांचवी निकासी उड़ान यूक्रेन में फंसे 249 भारतीय नागरिकों को रोमानिया की राजधानी बुखारेस्ट से लेकर सोमवार की सुबह दिल्ली पहुंची। रूस के यूक्रेन पर हमला करने के बाद युद्धग्रस्त देश में फंसे अपने नागरिकों को भारत शनिवार से ही रोमानिया और हंगरी के रास्ते देश वापस ला रहा है। रोमानिया और हंगरी यूक्रेन के पड़ोसी देश हैं। ‘टाटा ग्रुप’ के स्वामित्व वाली एअर इंडिया अपने पांच विमानों से अभी तक 1,156 भारतीयों को स्वदेश ला चुकी है। विदेश मंत्री डॉ एस जयशंकर ने बताया कि ऑपरेशन गंगा के तहत बुडापेस्ट से छठी फ्लाइट 240 भारतीय नागरिकों को लेकर रवाना हो चुकी है।

विदेश मंत्रालय ने युद्धग्रस्त यूक्रेन से भारतीयों को वापस लाने में सहायता करने के लक्ष्य से रविवार को एक आधिकारिक ट्विटर हैंडल “ऑपगंगा हेल्पलाइन” की शुरुआत की। यूक्रेन में फंसे हुए भारतीयों को वापस लाने के अभियान को “ऑपरेशन गंगा” नाम दिया गया है। भारत ने पहले ही पोलैंड, रोमानिया, हंगरी और स्लोवाकिया में 24 घंटे के नियंत्रण कक्ष स्थापित किए हैं ताकि इन देशों से लगने वाली यूक्रेन की सीमा से जरिए भारतीयों को निकाला जा सके।

छात्रों की निकासी को लेकर योजना बताए केंद्र-राहुल गांधी
वहीं, केंद्र सरकार से विपक्ष यूक्रेन में फंसे भारतीयों को जल्द से जल्द स्वदेश लाने की मांग कर रहा है। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने सोमवार को कहा कि सरकार को यूक्रेन में फंसे भारतीय नागरिकों को सुरक्षित बाहर निकालने से जुड़ी अपनी योजना के बारे में उन्हें व उनके परिवारों को अवगत कराना चाहिए। उन्होंने यूक्रेन में सैनिकों द्वारा कुछ भारतीय छात्रों के साथ कथित तौर पर दुर्व्यवहार किए जाने से जुड़ा वीडियो भी ट्विटर पर साझा किया। राहुल गांधी ने कहा, ”ऐसी हिंसा का शिकार हो रहे भारतीय छात्रों और यह वीडियो देख रहे उनके परिवारों के साथ मेरी सहानुभूति है। किसी भी माता-पिता को इस स्थिति से नहीं गुजरना चाहिए।”

भारतीयों की निकासी में मदद के लिए पड़ोसी देश जाएंगे मंत्री 
दूसरी तरफ, यूक्रेन संकट पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हाई लेवल मीटिंग बुलाई है। सरकारी सूत्रों की मानें तो कुछ केंद्रीय मंत्री भारतीयों की निकासी में समन्वय के लिए यूक्रेन के पड़ोसी देशों में जा सकते हैं। इनमें केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी, ज्योतिरादित्य सिंधिया, किरेन रिजिजू और जनरल (सेवानिवृत्त) वीके सिंह शामिल हैं। निकासी मिशन के दौरान ये लोग समन्वय और छात्रों की मदद को लेकर काम करेंगे।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.