October 4, 2022

सरकारी स्कूलों में जून के पहले हफ्ते से चलेगी ‘निपुण बिहार’ योजना, शिक्षा विभाग ने शुरू की तैयारी; बच्चों को मिलेगा यह लाभ

पटना

सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चे एक महती अभियान के तहत पढ़ने-लिखने, अक्षर पहचानने, उसका अर्थ बताने में दक्ष किये जायेंगे। जोड़-घटाव और उम्र सापेक्ष अन्य संख्यात्मक कार्यकलापों को हल करने में भी वे सक्षम होंगे। बिहार सरकार का शिक्षा विभाग इसको लेकर जून के पहले सप्ताह से राज्यभर के प्रारंभिक स्कूलों में ‘निपुण बिहार’ योजना आरंभ करने जा रहा है।

विभाग के अपर मुख्य सचिव ने गर्मी की छुट्टी के बाद स्कूल खुलते ही इसे आरंभ करने का निर्देश दिया है। विद्यालय शिक्षा समिति, त्रिस्तरीय पंचायत प्रतिनिधि और शिक्षा महकमे के सभी अधिकारी इस योजना को सफल बनाने में सहयोग करेंगे। दरअसल बिहार समेत देशभर के प्राथमिक स्कूलों के बच्चों में उम्र तथा कक्षा के अनुरूप अक्षर तथा अंकज्ञान की बड़ी चुनौती को देखते हुए नई शिक्षा नीति के तहत केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय ने ‘निपुण भारत योजना’ आरंभ की है।

अपने राज्य में ‘निपुण बिहार’ नाम से इसे जून में लॉन्च करने को लेकर शिक्षा विभाग ने जोर-शोर से तैयारी आरंभ कर दी है। निपुण भारत योजना का पूरा नाम ‘नेशनल इनीशिएटिव फॉर प्रोफिशिएंसी इन रीडिंग विद अंडरस्टैंडिंग एंड न्यूमेरेसी है’। इस योजना का मूल मकसद प्राथमिक कक्षा (खासकर पहली से तीसरी) के छात्र-छात्राओं के बीच आधारभूत साक्षरता एवं संख्यात्मकता के ज्ञान को पहुंचाना है। पिछले कई माह से शिक्षा विभाग इसे जमीन पर उतारने की तैयारियों में जुटा है।

शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव संजय कुमार ने अपनी अध्यक्षता में हुई फंडामेंटल लिटरेसी एंड न्यूमरेसी (एफएलएन) फाउंडेशन की स्टेट स्टीयरिंग कमेटी की बैठक में योजना को जमीन पर उतारने को लेकर तैयारियों की समीक्षा की। योजना बिहार शिक्षा परियोजना परिषद, एससीईआरटी, यूनीसेफ समेत शिक्षा के क्षेत्र में काम करने वाली आधा दर्जन स्वयंसेवी संगठनों की मदद से क्रियान्वित होगी।

बीईपी की राज्य कार्यक्रम पदाधिकारी किरण कुमारी ने बताया कि बैठक में कई अहम फैसले हुए। मई तक निपुण बिहार को लेकर तैयार तमाम शिक्षण सामग्री स्कूलों तक पहुंचा दिये जायेंगे, ताकि जून से इसे आरंभ किया जा सके। एससीईआरटी ने स्कूल रेडिनेस को लेकर शिक्षण सामग्री तैयार कर ली है। बच्चों के लिए वर्कबुक, अन्य शिक्षण सामग्री, पोस्टर, निपुण बिहार का थीम सॉन्ग भी तैयार हो गया है।

स्टेट टास्क फोर्स गठित 

किरण कुमारी ने बताया कि निपुण बिहार योजना के लिए राज्यस्तर पर प्राथमिक शिक्षा निदेशक रवि प्रकाश की अध्यक्षता में टास्क फोर्स का गठन किया गया है। जिला और प्रखंड स्तर पर भी यह टास्क फोर्स गठित होगी। राज्यस्तर से प्रखंड और विद्यालय तक की मॉनिटरिंग की जाएगी। योजना को सफल बनाने के लिए चार स्तरीय तंत्र राज्य-जिला-ब्लाक-स्कूल स्तर पर संचालित किया जाएगा।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.