September 29, 2022

बंद कमरे में फांसी के फंदे से लटका मिला मां-बेटे का शव, कमरे से आ रही थी तेज बदबू; कमरे में फटे मिले 500 के कई नोट

गया

गया के कोतवाली थाना क्षेत्र के पंचायती अखाड़ा मोहल्ले के बादाम गली में रविवार को बंद घर के कमरे से दो शव फांसी के फंदे से लटका मिला है। सुधा देवी अपने पुत्र बबलू शाह के साथ फंदे में झूलती नजर आई। देर रात सुधा देवी की बहन जो मिरचईया गली में रहती है, उसने घटनास्थल से पुलिस को मामले की जानकारी दी। शव की खबर सुनते ही आसपास के लोगों की भीड़ जमा हो गई।

दुर्गंध आने पर स्थानीय लोगों ने पुलिस को दी सूचना

जब मकान के बंद कमरे से दुर्गंध आने लगी तो आसपास के लोगों ने खिड़की खोलकर देखा। अंदर एक महिला और एक युवक का शव फंदे से लटका हुआ है। जिसके बाद लोगों ने पुलिस को सूचना दी।

छह घंटे बीत जाने के बाद भी कमरे से नहीं निकला शव

लोगों ने बताया कि पुलिस को दोपहर ढाई बजे सूचना दी गयी। इसके बाद रात नौ बजे तक शव को कमरे से बाहर नहीं निकाला गया। इस संबंध में कोतवाली थानाध्यक्ष कुमार कौशलेंद्र अकेला ने बताया कि सूचना मिलते ही घटनास्थल पर पदाधिकारी को भेज दिया गया। लेकिन उक्त मकान का दरवाजा लोहे का है और अंदर से बंद है। ऐसे में रविवार व रामनवमी का पर्व होने के कारण गेट काटने के लिए मिस्त्री को खोजा जा रहा है। जिस वजह से समय लग रहा है। पदाधिकारी घटनास्थल पर मौजूद है और शव को बाहर निकालने का प्रयास किया जा रहा है।

मानसिक रूप से विक्षिप्त थी महिला व उसका बेटा

उन्होंने बताया कि स्थानीय लोगों से मिली जानकारी के मुताबिक वह नौकरानी का काम करती थी। वह मानसिक रूप से विक्षिप्त भी थी। वहीं उसका पुत्र भी विक्षिप्त था। इन दोनों ने किस कारण फंदा लगाया और कब लगाया यह तो पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद भी स्पष्ट हो पायेगा।

कमरे में फटा नोट भी दिख रहा

इस दौरान खिड़की से देखने पर कमरे में 500 के कई नोट फटे हुये दिख रहे हैं। यह नोट कहां से आया और यह कैसे फटा यह सब गुत्थी दरवाजा खुलने के बाद ही स्पष्ट हो पायेगा।

दीवार पर लिखा है सुसाइड नोट

इस संबंध में थानाध्यक्ष ने बताया कि दीवार पर कुछ लिखे होने की बात सामने आयी है। लेकिन जब तक दरवाजा नहीं खुलता अंदर दीवार पर क्या लिखा है स्पष्ट समझ में नहीं आ रहा है। इस संबंध में पदाधिकारी लगे हुये है। शव को कमरे से निकाल अनुग्रह नारायण मगध मेडिकल कॉलेज अस्पताल में पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया जायेगा। जहां से रिपोर्ट आने के बाद मौत का कारण स्पष्ट हो पायेगा।

क्या कहते हैं थानाध्यक्ष

कोतवाली थाना के थानाध्यक्ष कुमार कौशलेंद्र अकेला ने कहा, ‘मृतका सुधा देवी की बहन द्वारा पुलिस को बताया गया है कि दोनों मां-बेटे अपने जमीन को बेच दिए थे और उसी पैसे से जीवन गुजारा कर रहे थे। अब पैसे खत्म होने के बाद भुखमरी के कगार पर आ गए थे जिस वजह से दोनों अवसाद ग्रसित हो गए थे। आत्महत्या का एक यह भी कारण हो सकता है। फिलहाल पुलिस सभी बिंदुओं पर जांच कर रही है।’

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.