पटना : हज़रत बाबा ताजउददीन नागपुरी रह. अलैह का 33 वां उर्स संपन्न

हज़रत बाबा ताजउददीन नागपुरी रह. अलैह के 33 वें उर्स के मौके पर ताजनगर,फुलवारीशरीफ में विशेष आयोजन।
सभी धर्म के लोगों ने श्रर्धापूर्वक किया याद, देश-प्रदेश के अमन चैन के लिए मांगी गई दुआ।

पटना:
हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी दरबार ताजुल औलिया, पटना में रविवार को हज़रत बाबा ताजउददीन ताजुल औलिया नागपुरी रह.अलैह का 33वां उर्स मनाया गया। इस अवसर फजिर के नमाज के बाद कुरानखानी के साथ विधिवत उर्स की शुरूआत हुई।बाद में रविवार को ही धार्मिक अनुष्ठान,चादरपोशी की गई जिसकी मुंबई से आए मौलाना शफीकुल कादरी ने अगुवाई की।

चादरपोशी के दौरान सभी धर्मों के लोगों ने बढ-चढ कर हिस्सा लिया और अपने अपने तरीके से बाबा ताजउद्दीन को याद किया।पूरे कार्यक्रम के दौरान बाबा के अनुयायियों के अलावा प्रदेश के बाहर से आए श्रर्धालुओं ने दर्शन किए।इस मौके पर लोगों ने देश प्रदेश के अमन चैन के लिए दुआ भी मांगी। शाम में सभी लोगों के लिए विशेष लंगर का भी आयोजन किया गया। उर्स के मौके पर कव्वाली का भी आयोजन किया गया । जिसमें देश भर के जाने माने कव्वालों ने अपने कलाम से लोगों का दिल जीत लिया।

ताजुद्दीन बाबा का इतिहास:
ताजुद्दीन बाबा का जन्म 1861 जनवरी को महाराष्ट्र राज्य में नागपुर के पास स्थित कामठी नामक एक जगह पर हुआ था। वह मेहर बाबा के पांच परफेक्ट मास्टर्स में से एक थे।ताजुद्दीन बाबा एक असामान्य बच्चे के रूप में पैदा हुए थे। ताजुद्दीन बाबा ने भी अपने माता-पिता को बहुत ही कम आयु में खो दिया। उनके चाचा अब्दुल रहमान ने उनकी देखभाल की।कामठी के एक स्कूल में पढ़ते समय, वह आध्यात्मिक गुरु हजरत अब्दुल्ला शाह के संपर्क में आये, जिन्होंने तुरंत ताजुद्दीन बाबा की आध्यात्मिक क्षमता को पहचाना।

हजरत अब्दुल्ला शाह से उन्होंने कुरान पढ़ा।बाद में 1881 के दौरान 20 साल की उम्र में, वह नागपुर सेना रेजिमेंट में एक सिपाही (सैनिक) के रूप में शामिल हो गए। मास्टर का उपहार उनके दिल में था और सेना के कामकाज में उन्हें शायद ही कोई सांत्वना मिली।
हजरत दाऊद साहेब हजरत ताजुद्दीन बाबा के आध्यात्मिक गुरु थे।अल्लाह के साथ उनकी एकाग्रता ने उन्हें अपने आस-पास की दुनिया से अनजान बना दिया और उन्होंने मस्त की तरह सागर की सड़कों पर घूमना शुरू कर दिया। धीरे-धीरे उनके रिश्तेदारों और दोस्तों को इसके बारे में पता चला और उन्होंने उन्हें कामठी वापस बुलाया।

ताजुद्दीन बाबा की मृत्यु:
1925 तक बाबा लगभग 65 वर्ष के थे तब बाबा के स्वास्थ्य में काफी गिरावट आई, और महाराजा राघोजी राव ने बाबा के इलाज के लिए नागपुर के सर्वश्रेष्ठ चिकित्सकों की सेवाएं प्रदान किया था, लेकिन इसका कोई फायदा नहीं हुआ।17 अगस्त 1925 को, बाबा ने भौतिक रूप छोड़ा, लेकिन वह हमेशा अपने सभी भक्तों के दिल में रहेगें।उनकी महिमा जंगल की आग की तरह फैल गई और हजारों और हजारों शकरदार में महल में उतरने के लिए महल आए। ताज, शब्द का अर्थ है, दिव्यता का मुकुट था, जीवन के सभी क्षेत्रों के शिष्यों की एक धारा के लिए, और धार्मिक धर्मों के सभी स्कूलों से।मेहर बाबा ने अपनी प्रसिद्ध पुस्तक “गॉड स्पीक्स” में एक परफेक्ट मास्टर की स्थिति को संदर्भित किया, कि एक सद्गुरु या कुतुब उच्चतम है, और सद्गुरु की कृपा के बिना कोई भी स्वयं को महसूस नहीं कर सकता है।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.