मुजफ्फरपुर मुठभेड़ः 20 मिनट तक गोलीबारी से थर्राया रहा फुलवरिया बाजार

मुजफ्फरपुर

मोतीपुर प्रखंड के बरुराज थाना का फुलवरिया बाजार क्षेत्र की आर्थिक गतिविधियों का केंद्र है। रविवार शाम अचानक गोलियों की तड़तड़ाहट से पूरा बाजार थर्रा गया। करीब 20 मिनट तक जो जहां था दुबका रहा। गोलियों की आवाज बंद होने के बाद जब पुलिस की गिरफ्त में अपराधियों को देखा तो माजरा समझ में आया।

पेट्रोल पंप और बाइक एजेंसी को लूटने के लिए शाम करीब पांच बजे दस सशस्त्र अपराधी पहुंचे गये थे। बोलेरो बाहर खड़ी की। पंप संचालक ने बताया कि दो अपराधी शौचालय से लेकर कैश काउंटर तक रेकी कर रहे थे। जब उन्होंने दोनों से पूछा तो कुछ भी जवाब नहीं दिया। तब खतरे का आभास हुआ। वे कैश रूम में चले गए और अंदर से कमरे को बंद कर कर्मियों को गाइड करने लगे। तभी पुलिस अधिकारी भी सादे लिबास में पहुंच गए। पुलिस ने दो अपराधियो को पकड़ा तभी बाहर खड़े अन्य अपराधी फायर करते हुए साहेबगंज की तरफ भागने की कोशिश की। पुलिस की जवाबी कार्रवाई की। उन्होंने बताया कि पंप पर अफरा तफरी मच गई थी और तेल लेने आए बाइक सवार इधर उधर भागने लगे। बीस मिनट तक मुठभेड़ के बाद आठ अपराधी पुलिस के हत्थे चढ़ गए। प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि मुठभेड़ के दौरान अपराधी साहेबगंज के रास्ते दक्षिण की ओर चौर में घुस गए और खेत होकर लेकर फायरिंग करने लगे।

दो साल पहले नोजल मैन से छीन लिये थे 60 हजार रुपये : पंप संचालक ने बताया कि दो वर्ष पूर्व भी अपराधी पंप पर लूट की घटना को अंजाम दे चुका है। नोजल मैन से 60 हजार रुपये नकद लूट लिये थे। उन्होंने बताया कि समय रहते पुलिस नहीं पहुंचती तो बड़ी घटना घटित हो सकती थी।

घायल और गिरफ्तार अपराधी

1. देवरिया थाना के धरफरी निवासी धर्मवीर कुमार के पैर में दो गोली लगी है।

2. वैशाली के हुसैनपुर निवासी चुन्नू कुमार उर्फ चुमन के दोनों पैर में गोली लगी है।

3. देवरिया थाना के धरफरी निवासी राहुल कुमार के एक पैर में गोली लगी है।

4. वैशाली के नीरज कुमार के एक पैर में गोली लगी है।

5. देवरिया थाना के धरफरी निवासी विकास कुमार सहनी घायल है।

6. पारू थाना के छाप निवासी सलीम हुसैन गिरफ्तार है।

7. वैशाली के मंजय कुमार पिता लालबाबू राय मौके से गिरफ्तार है।

8. देवरिया थाना के धरफरी निवासी विकास कुमार गिरफ्तार है।

लूट की साजिश पता होते शुरू हो गई थी नाकेबंदी

मुठभेड़ के दौरान घायल धरफरी के शातिर धर्मवीर का मोबाइल पहले से पुलिस ने सर्विलांस पर रखा था। वह अपने गिरोह के बदमाशों से जब बातचीत करता तो पुलिस अधिकारियों को अपशब्द बोलता व एसएसपी को सीधे चैलेंज करता था। इस वजह से पुलिस उसकी गतिविधियों पर पहले से नजर रख रही थी। बरुराज में लूट की सूचना मिलने के बाद एसएसपी जयंतकांत से लेकर डीएसपी पश्चिमी अभिषेक आनंद, एसडीपीओ सरैया राजेश शर्मा समेत थानेदारों ने अलग-अलग चौक चौराहों पर मोर्चा संभाल रखा था।

पंप व बाइक एजेंसी में लुटने से बच गये 10 लाख

फुलवरिया बाजार स्थित पेट्रोल पंप और बगल में बाइक एजेंसी में करीब 10 लाख रुपये कैश थे। एसएसपी जयंतकांत ने बताया कि कर्मचारियों ने बताया कि कैश सुरक्षित है। धरफरी का धर्मवीर कुमार सरगना है। कैश लूटने के बाद सभी अपराधी बोलेरो से निकल भागते। बाइक से फरार होने वाले को चिह्नित कर लिया गया है। वैशाली पुलिस के सहयोग से छापेमारी चल रही है

हथियार डालने के लिए चेतावनी पर अपराधियों ने शुरू कर दी फायरिंग

एसएसपी ने बताया सर्विलांस सेल अपराधियों के कॉल को पहले से ही ट्रेस कर रही थी। तब मुखबिरों से जानकारी ली गई तो बरुराज में घटनास्थल होने की सूचना मिली। इसके बाद एसएसपी व सरैया एसडीपीओ राजेश शर्मा के नेतृत्व में मोतीपुर और बरुराज इलाके में घेराबंदी कर जगह-जगह वाहन जांच शुरू की गई। इसी क्रम में पुलिस टीम को जानकारी हुई कि अपराधियों को फुलवरिया बाजार की ओर जाते देखा गया है। पुलिस टीम दो तरफ से फुलवरिया बाजार पहुंची। वहां अपराधी पेट्रोल पंप और एक बाइक एजेंसी में लूटपाट कर रहे थे जिन्हें पुलिस टीम ने घेरा। पुलिस ने अपराधियों को हथियार डालने की चेतावनी दी, लेकिन अपराधियों ने पुलिस घेराबंदी तोड़ने के लिए फायरिंग शुरू कर दी। अपराधी फायर करते हुए निकलने लगे। जवाब में पुलिस की ओर से भी फायरिंग की गई।

वैशाली व मोतिहारी पुलिस से मांगी गई थी क्राइम हिस्ट्री

एसएसपी जयंत कांत ने बताया कि लूटपाट, चोरी, मारपीट और आर्म्स एक्ट के कई मामले धर्मवीर और उसके साथियों पर दर्ज है। सभी के संबंध में वैशाली और मोतिहारी पुलिस से भी क्राइम हिस्ट्री मांगी गई थी। धर्मवीर के खिलाफ मोतिहारी में कई लूटकांड दर्ज होने की जानकारी मिल रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.