February 8, 2023

जुगाड़ तकनीकः बिहार के मोतिहारी में गाड़ियों की लाइट जलाकर हुई इंटरमीडिएट की परीक्षा

मोतिहारी

बिहार में एक बार फिर जुगाड़ तकनीक का जलवा दिखाई दिया। अभी तक सरकारी अस्पतालों में मोमबत्ती और मोबाइल की रोशनी में ऑपरशन की खबरें आती रहती थीं। अब परीक्षा भी इसी तरह की वैकल्पिक व्यवस्था में कराने का मामला सामने आया है। मोतिहारी में इंटरमीडिएट की परीक्षा गाड़ियों की लाइट जलाकर पूरी कराई गई। इसका वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। हालांकि इसे लेकर जिलाधिकारी ने सफाई भी दी है।

मोतिहारी के महाराजा हरेंद्र किशोर कॉलेज पर दूसरी पाली में इंटरमीडिएट की परीक्षा थी। केंद्राधीक्षक नवनीत कुमार झा ने बताया कि यहां छात्राओं का सेंटर था। दूसरी पाली में करीब 12 सौ परीक्षार्थियों की परीक्षा थी। ऊपर हॉल में बैठने के लिए सीटिंग प्लान किया गया था। लेकिन बैठने को लेकर समस्या हो गई। इसके बाद हंगामा मचने लगा। हंगामा बढ़ा तो प्रशासन को सूचना दी गयी। सूचना मिलने पर सदर एसडीओ सौरव सुमन यादव व डीईओ संजय कुमार पहुंचे। अधिकारियों के समझाने पर करीब 4:30 बजे से परीक्षा शुरू हो पाई।

हंगामे के कारण परीक्षा दो घंटे से अधिक समय की देरी से शुरू हुई। देर शाम डीएम शीर्षत कपिल अशोक भी परीक्षा केंद्र पर पहुंचे। उन्होंने केंद्राधीक्षक को बदलते हुए निलंबन की कार्रवाई का आदेश डीईओ को दिया। परीक्षा देरी से शुरू होने के कारण अंधेरा हो गया और बिजली नहीं होने से परीक्षार्थियों को परेशानी होने लगी। इस पर वहां मौजूद गाड़ियों की लाइट जलाकर परीक्षा किसी प्रकार पूरी कराई गई।

इस बारे में डीएम शीर्षत कपिल अशोक ने बताया कि परीक्षा केंद्र पर सीटिंग प्लान को लेकर समस्या उत्पन्न हुई। बाद में लाइट जलाकर परीक्षा ली गयी। मामले में केंद्राधीक्षक को बदलते हुए निलंबन की कार्रवाई का आदेश डीईओ को दिया गया है। डीएम का कहना है कि बिजली जाने और अंधेरे को देखते हुए जनरेटर की व्यवस्था करा दी गई थी।

54 केंद्रों पर 8969 परीक्षार्थी हुए शामिल

जिले के 54 परीक्षा केंद्रों पर हुई इंटर की परीक्षा में प्रथम पाली में 8969 परीक्षार्थी परीक्षा में शामिल हुए। 152 परीक्षार्थी परीक्षा से अनुपस्थित रहे। वहीं द्वितीय पाली में 34,482 उपस्थित व 583 परीक्षार्थी अनुपस्थित रहे। इस दौरान प्रथम पाली में साइंस व आर्ट्स के गणित विषय की परीक्षा हुई। जबकि द्वितीय पाली में आट्र्स के हिन्दी विषय की परीक्षा थी। प्रथम पाली सुबह 9:30 बजे से अपराह्न 12:45 बजे तक व द्वितीय पाली अपराह्न 1:45 बजे से 5 बजे तक आयोजित हुई। परीक्षार्थियों को परीक्षा शुरू होने के 10 मिनट पहले तक ही परीक्षा केंद्र में प्रवेश की अनुमति दी गयी।

कदाचारमुक्त परीक्षा को किये गये थे इंतजाम

कदाचार मुक्त परीक्षा के लिए परीक्षा केंद्रों पर आवश्यक कदम उठाये गये हैं। सभी केंद्रों पर स्टेटिक मजिस्ट्रेट के साथ पुलिस बल को तैनात किया गया था। वहीं गश्ती दल दंडाधिकारी के द्वारा परीक्षा का जायजा लिया जा रहा था। वरीय प्रशासनिक व पुलिस अधिकारी भी विभिन्न परीक्षा केंद्रों का जायजा लेते रहे। सभी केंद्रों पर धारा 144 के तहत निषेधाज्ञा लागू है। प्रथम पाली के परीक्षार्थी निर्धारित समय से पहले से ही परीक्षा केद्रों पर पहुंचना शुरू हो गये थे। परीक्षा केंद्रों पर परीक्षार्थियों की सुबह से ही भीड़ जुटनी शुरू हो गयी थी। हालांकि सुबह में घना कोहरा होने के कारण परीक्षार्थियों को परेशानी का सामना करना पड़ा। ग्रामीण क्षेत्रों से आने वाले परीक्षार्थियों को सबसे अधिक परेशानी हुई।

डीएम व एसपी ने परीक्षा केंद्रों का लिया जायजा

डीएम शीर्षत कपिल अशोक, एसपी डॉ. कुमार आशीष व एसडीओ सदर सौरभ सुमन यादव इंटरमीडिएट परीक्षा केंद्र जिला स्कूल व मंगल सेमिनरी प्लस टू परीक्षा केंद्र का औचक निरीक्षण किया। सभी परीक्षा केंद्रों पर सीसीटीवी कैमरे व वीडियोग्राफी की समुचित व्यवस्था की गई है। फ्र्रिंस्कग के पश्चात ही परीक्षार्थी को परीक्षा केंद्र में प्रवेश कराया जा रहा था। डीएम ने संबंधित पदाधिकारी को परीक्षा के बाद सड़कों पर संभावित जाम को लेकर शहर भर में ट्रैफिक सुविधा को सुदृढ़ करने का निर्देश दिया । उन्होंने कहा कि सभी परीक्षा केंद्रों पर कदाचार मुक्त परीक्षा कराने के लिए जिला प्रशासन दृढ़ संकल्पित है।

फ्रीस्किंग के बाद ही मिला प्रवेश

परीक्षार्थियों को परीक्षा केंद्रों के प्रवेश द्वार पर पूरी तरह फ्रीस्किंग के बाद ही अंदर प्रवेश मिल रहा था। यह सुनिश्चित किया जा रहा था कि एडमिट कार्ड छोड़कर परीक्षार्थी किसी प्रकार का चीट-पूर्जा व अन्य कोई इलेक्ट्रॉनिक सामान लेकर अंदर नहीं जाए। केंद्राधीक्षक व वीक्षक इस पर नजर रख रहे थे।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.