February 8, 2023

यूपी चुनाव में बिहार की रंगीन और झरना खादी पहनेंगे ‘नेताजी’, इस जिले के बुनकर तैयार कर रहे हैं कुर्ता-पायजामा, शर्ट और गमछा

भागलपुर

यूपी चुनाव में ‘नेताजी’ रंगीन व झरना खादी पहने नजर आयेंगे। इसके लिए भागलपुर में उनके लिए कुर्ता, पायजामा, शर्ट, गमछा तैयार किये जा रहे हैं। दस दिनों के अंदर पांच करोड़ के कपड़ों को तैयार कर यूपी भेजा जायेगा। इसके लिए तीन हजार बुनकरों से कपड़े तैयार कराये जा रहे हैं। बिहार बुनकर कल्याण समिति के सदस्य अलीम अंसारी ने बताया कि यूपी चुनाव में ‘नेताजी’ रंगीन, झरना व सफेद खादी के कुर्ता व शर्ट पहनेंगे।

चुनाव के कारण इस बार खादी की डिमांड अधिक है। अमूमन भागलपुर में दो करोड़ रुपये का ऑर्डर मिलता था, लेकिन इस बार यूपी, मध्य प्रदेश, राजस्थान, दिल्ली व झारखंड आदि जगहों से दस करोड़ रुपये का खादी के कपड़ों के ऑर्डर मिले हैं। इसमें सिर्फ यूपी से 50 प्रतिशत माल तैयार करने को कहा गया है। यहां खरीक, मिरजाफरी, मोमिन टोला, दरियापुर, चंपानगर, इब्राहिमपुर, शेखपुरा, सलेमपुर, हरनथ, खैरा, समस्तीपुर, हसनचक आदि जगहो पर कपड़ों को तैयार करवाया जा रहा है।

कई तरह के खादी कपड़े हो रहे तैयार

मिरजाफरी में खादी का कपड़ा तैयार करने में जुटे बुनकर रंजीत कुमार ने बताया कि  चुनाव के लिए मसलनी खादी, लिनन खादी, खादी कॉटन आदि कपड़े तैयार हो रहे हैं। चंपानगर के बुनकर संजीव कुमार ने कहा कि भागलपुरी लिनन खादी पहनने में आरामदायक होता है। इसमें स्कीन की कोई समस्या भी नहीं होती है। चुनाव के दौरान नेताजी को भागदौड़ करना होता है इसीलिए वह आरामदायक कपड़ा पहनना चाहते हैं। इसीलिए बुनकरों को कपड़े का ऑर्डर मिला है।

तीन हजार बुनकरों को मिलेगा रोजगार

पांच गुना अधिक खादी कपड़ों का ऑर्डर मिलने से तीन हजार बुनकरों को रोजगार मिला है। बुनकर हेमंत कुमार ने बताया कि कोरोना काल में बुनकरों के पास रोजगार की कमी थी। इस ऑर्डर से कई बुनकरों को रोजी-रोटी की व्यवस्था हो गयी है।

सिल्क का भी दो करोड़ रुपये का मिला ऑर्डर

कोरोना का मामला घटते हुए ही अब कई जगहों से बुनकरों को ऑर्डर मिलने लगा है। समिति के सदस्य अलीम अंसारी ने बताया कि सिल्क का अभी दो करोड़ रुपये का ऑर्डर मिला है। कई महानगरों में माहौल शांत होने के बाद सिल्क कपड़ा तैयार करने का ऑर्डर अब मिलना शुरू हो गया है।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.