September 29, 2022

मुजफ्फरपुर में सनकी पति की खौफनाक करतूत, पत्नी को जिंदा जलाया, सास को फोन कर कहा- आपकी बेटी के शरीर में आग लगा दिया हूं, लाश ले जाना

मुजफ्फरपुर

मुजफ्फरपुर जिले के अहियापुर थाना के मुस्तफापुर में सोमवार सुबह करीब आठ बजे रसोईघर (किचेन) बनाने के विवाद में ससुराल वालों ने 32 वर्षीया किरण देवी पर केरोसिन उड़ेल जिंदा जला दिया। इससे पहले उसके साथ मारपीट कर बेहोश कर दिया। पति राजेश साह ने अपनी सास सीता देवी को कॉल कर बताया कि आपकी बेटी के शरीर में आग लगा दिया हूं। आकर लाश ले जाइये। 90 प्रतिशत जल चुकी किरण को कमरे के दरवाजे के पास छोड़कर सभी ससुराल वाले फरार हो गए।

महिला के मायके मीनापुर के मेथनापुर गांव में कोहराम मच गया। भाई संजीत कुमार कई लोगों के साथ मुस्तफापुर पहुंचा और उसे उठाकर एसकेएमसीएच ले गया जहां एक घंटे बाद उसने दम तोड़ दिया। शरीर पर मारपीट से चोट के भी निशान थे। मृतका की मां के बयान पर अहियापुर थाने में ससुराल पक्ष के आठ लोगों पर हत्या की एफआईआर दर्ज की गई है। इसमें पति के अलावा ससुर रामनंदन साह, देवर अरुण साह, राजीव कुमार, लालू साह, पूजा देवी, रविना देवी और चमेली देवी को नामजद किया है। संजीत ने बताया कि किरण का पति राजेश पटना में एक कैंटीन में खाना बनाता है। अभी घर आया हुआ था। ससुराल में परिवार के अन्य लोग सब्जी बेचते हैं। किरण के मायके वालों की आर्थिक स्थिति ससुराल वालों से बेहतर है।

बड़े पुत्र की बीमारी से हो गई थी मौत

किरण की शादी 2008 में हुई थी। उसे दो पुत्र हुए। तीन साल पहले बड़े पुत्र विशाल कुमार की 11 साल की उम्र में बीमारी की वजह से मौत हो गई। संजीत ने बताया कि बहन को शादी के बाद से अक्सर मायके से रुपये मांगकर लाने के लिए प्रताड़ित किया जाता था। 14 साल से कुछ-कुछ रुपये भेज देता था ताकि बहन को ससुराल में दिक्कत नहीं हो।

गांव वालों ने बताया कि किरण जिंदा जलाई गई

संजीत ने बताया कि जब मुस्तफापुर पहुंचा तो जली हुई किरण दरवाजे पर कराह रही थी। गांव वालों ने बताया कि किरण को केरोसिन छिड़ककर जिंदा जलाने के बाद ससुराल वाले फरार हो गए। एफआईआर के बयान में भी इसे दर्ज कराया गया है। घटना के बाद प्रशिक्षु डीएसपी सियाराम यादव ने घटनास्थल पर पहुंचकर जांच की। उन्होंने एफएसएल से छानबीन कराने का निर्देश दिया है।

घटना के वक्त नौ वर्ष का पुत्र बादल कुमार स्कूल गया हुआ था। मीनापुर स्थित मायके में किरण की अंत्येष्टि की गई। पुत्र ने मुखाग्नि दी। मां की मौत के बाद स्कूल से जब बादल को लाने उसका मामा गया तो स्कूल वालों ने कहा कि छात्र के पिता ने कॉल कर बच्चे को किसी को देने के लिए मना किया है। इसके बाद बादल को ले जाने के लिए मीनापुर विधायक मुन्ना यादव को संजीत ने कॉल कर बुलवाया। इसके बाद बादल को मामा अपने साथ मुखाग्नि देने के लिए ले गए।

एसएसपी जयंतकांत ने बताया है कि मायके वालों ने दहेज प्रताड़ना में केरोसिन छिड़क कर किरण को जला देने का आरोप लगाते हुए बयान दर्ज कराया है। एफएसएल की पोस्टमार्ट रिपोर्ट से स्पष्ट होगा कि जलने से पहले मारपीट की गई थी या नहीं। आरोपित फरार हैं।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.