January 28, 2023

पहली बार मार्च में आया मैट्रिक रिजल्ट, टॉपरों पर हुई नंबरों की बरसात; 47 छात्रों ने बनाई टॉप-10 में जगह

पटना

बिहार बोर्ड ने गुरुवार को मैट्रिक का रिजल्ट जारी कर दिया। इस बार टॉपरों पर नंबरों की बरसात हुई है। बिहार बोर्ड के इतिहास में पहली बार मेधा सूची (टॉप 10) में शामिल 47 होनहारों को 95.6 से 97.40 फीसदी तक अंक आए हैं। टॉपरों के बीच नंबरों की जबरदस्त प्रतिस्पर्धा दिख रही है। औरंगाबाद के पटेल हाई स्कूल दाउदनगर की रामायणी राय ने 97.40 फीसदी यानी 487 अंक लाकर राज्य में टॉप किया है।

दूसरे स्थान पर नवादा के प्रोजेक्ट गर्ल्स हाई स्कूल रजौली की सानिया कुमारी और न्यू अपग्रेड हाई स्कूल सिधाप परसही लदनिया, मधुबनी के विवेक कुमार ठाकुर हैं। इन दोनों को 486 अंक (97.2 फीसदी) अंक प्राप्त हुए हैं। तीसरे स्थान पर उत्क्रमित माध्यमिक स्कूल बाजार वर्मा, गोह औरंगाबाद की छात्रा प्रज्ञा कुमारी है। प्रज्ञा को 97 फीसदी अंक मिले हैं।

कुल 79.88 फीसदी परीक्षार्थी सफल हुए हैं। यह पिछले साल से 1.71 फीसदी ज्यादा है। पिछले साल 78.17 फीसदी छात्र सफल हुए थे। मेधा सूची में पहले तीन स्थान पर चार विद्यार्थी हैं, जिसमें तीन छात्राएं हैं। ज्ञात हो कि पिछले साल 2021 में मैट्रिक में प्रथम स्थान प्राप्त करने वाले तीन होनहारों को 96.80 फीसदी अंक यानी 484 अंक मिले थे, जो एक रिकॉर्ड था, वह भी इस बार टूट गया। शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी, अपर मुख्य सचिव संजय कुमार और बोर्ड अध्यक्ष आनंद किशोर ने शिक्षा विभाग सभागार में वेबसाइट www.results.biharboardonline.com और onlinebseb.in पर रिजल्ट जारी किया।

पहली बार मार्च में रिजल्ट

बिहार बोर्ड के इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ है जब मार्च में मैट्रिक का रिजल्ट जारी किया गया। जहां सीबीएसई, सीआईएससीई के साथ ज्यादातर राज्य बोर्ड की परीक्षा समाप्त नहीं हुई है, वहीं बिहार बोर्ड ने मूल्यांकन शुरू होने के मात्र 27 दिनों के अंदर परिणाम जारी कर दिया।

टॉप 10 में कुल 47 विद्यार्थी

इस बार टॉप-10 में कुल 47 विद्यार्थी शामिल हैं। इसमें 15 छात्राएं और बाकी 32 छात्र हैं। इस बार बिहार बोर्ड ने दो मेधा सूची जारी की है। पहला टॉप-पांच मेधा सूची में आठ विद्यार्थी शामिल हैं। वहीं दूसरा टॉप-6 से टॉप-10 की सूची जारी हुई है। इसमें 39 विद्यार्थियों को शामिल किया गया है।

कुल परीक्षार्थी:      16,11,099
छात्र की संख्या:     8,20,179
छात्रा की संख्या:    7,90,920
कुल उत्तीर्णता:      12,86,971
कुल उत्तीर्ण छात्र:   6,78,110
कुल उत्तीर्ण छात्रा:  6,08,861

प्रथम श्रेणी:        4, 24, 597
द्वितीय श्रेणी:      5,10,411
तृतीय श्रेणी:       3,47,637

पिछले पांच साल में रिजल्ट जारी करने की तिथि 

वर्ष     रिजल्ट की तिथि 
2018:    06 जून
2019:    06 अप्रैल
2020:    26 मई
2021:    05 अप्रैल
2022:    31 मार्च

सबसे ज्यादा द्वितीय श्रेणी में रहा रिजल्ट 

इस बार भी सबसे बेहतर रिजल्ट द्वितीय श्रेणी का रहा। द्वितीय श्रेणी में पांच लाख 10 हजार 411 विद्यार्थी उत्तीर्ण हुए। इस बार 16 लाख 11 हजार 099 परीक्षार्थी शामिल हुए। इनमें 12 लाख 86 हजार 971 (79.88 फीसदी) सफल हुए है।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.