October 7, 2022

बिहार: अब प्रति लाख व्यक्ति पर होगी 165-170 पुलिसकर्मियों की तैनाती, सीएम बोले- जो पुलिसवाला शराब पीने के चक्कर में रहता है वो सेवा नहीं कर रहा

पटना

बिहार में पुलिसकर्मियों की संख्या प्रति लाख की आबादी पर 165-170 होगी। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने रविवार को पुलिस सप्ताह के समापन समारोह में कहा कि प्रति एक लाख व्यक्ति पर अभी 115 पुलिसकर्मियों के हिसाब से 1.42 लाख बहाली करनी है। एक लाख बहाली हो गई है। हमारा लक्ष्य प्रति एक लाख की आबादी पर पुलिसकर्मियों की संख्या को बढ़ाकर 165 से 170 करना है। उन्होंने अधिकारियों को बहाली प्रक्रिया में तेजी लाने का निर्देश दिया। कहा कि जितनी तेजी से बहाली होनी चाहिए अभी तक उतनी तेजी से नहीं हो रही। बहाली प्रक्रिया को तेज करें।

पुलिस में महिलाओं की बढ़ती संख्या पर जताई खुशी

बिहार विशेष सशस्त्र पुलिस (बीएसएपी)-1 के मिथिलेश स्टेडियम में आयोजित कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि उपस्थित हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने पुलिस में महिलाओं की बढ़ती संख्या पर खुशी जताई। कहा कि पहले कितनी महिलाएं पुलिस में होती थीं। आज 25 हजार से ज्यादा महिला पुलिसकर्मी और पदाधिकारी हैं। इसे बढ़ाकर 35 प्रतिशत करना है। बिहार में जितनी महिला पुलिसकर्मी हैं, उतनी बड़े-बड़े राज्यों में भी नहीं हैं। कहा कि हर थाना और कार्यालय स्तर पर महिला पुलिसकर्मी होनी चाहिए। उनके लिए हर तरह की सुविधा भी उपलब्ध कराई गई है।

भूमि विवाद व शराब पर पुलिस को चेताया

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि भूमि विवाद पर तत्परता से कार्रवाई होनी चाहिए। भूमि विवाद के कारण 60 प्रतिशत हत्याएं होती हैं। अधिकारियों को निर्देश दिया कि थाना, अनुमंडल और जिला स्तर पर इसके लिए होने वाली बैठकें नियमित रूप से आयोजित करते रहें। वहीं शराबबंदी पर कहा कि जान लीजिए, सभी पुलिसवालों ने शराब नहीं पीने की शपथ ली है। कोई पीने के चक्कर में रहता है तो वह सेवा नहीं कर रहा, अपना भी वह दुश्मन होता है। अब तो ड्रोन से भी काम शुरू हो गया है।

पहले फिरौती के लिए कितना अपहरण होता था

मुख्यमंत्री ने आपराधिक घटनाओं का भी इस दौरान जिक्र किया। कहा, पहले हत्या, दंगा और फिरौती के लिए अपहरण का क्या हाल था। फिरौती के लिए अपहरण की कितनी घटनाएं होती थी। आज अपराध कितना घटा है। एनसीआरबी के वर्ष 2020 के आंकड़ों का हवाला देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि अपराध दर में बिहार आज 25वें स्थान पर है। बिहार आबादी में देश में तीसरे और क्षेत्रफल में बारहवें स्थान पर है। दुनिया में कहीं भी आबादी का धनत्व इतना ज्यादा नहीं होगा। फिर भी अपराध को नियंत्रित रखना बड़ी बात है। उन्होंने सांप्रदायिक घटनाओं को रोकने के लिए पुलिस की तत्परता की सराहना की।

अब अनुसंधान में देर नहीं हो

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने थाना स्तर पर अनुसंधान और विधि-व्यवस्था के कार्य बंटवारे का जिक्र करते हुए कहा कि इसमें बहुत समय लगा। यह काम अब शुरू हो चुका है इसलिए अनुसंधान समय पर होना चाहिए। उन्होंने विशेष शाखा (स्पेशल ब्रांच) के कैडर पर भी बात की और कहा कि अब 50 प्रतिशत पुलिसकर्मी वहां स्थायी रहेंगे बाकी पुलिसवालों को भी वहां अनुभव के लिए भेजा जाएगा। विशेष शाखा का अपना दायित्व है, कहां क्या हो रहा है और कौन लोग गड़बड़ करता है पता लगाना है।

विपक्ष पर भी ली चुटकी

बिहार विशेष सशस्त्र पुलिस (बीएसएपी) के बहाने मुख्यमंत्री ने किसी का नाम लिए बगैर विपक्ष पर चुटकी ली। कहा जब इसका नियम बना रहे थे तो बहुत लोगों को यह समक्ष में नहीं आया। आज यह बन गया है तो कितना अच्छा लगता है।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.