October 7, 2022

आयुष दवाओं की क्वालिटी से नहीं हैं खुश, यहां दर्ज कराएं अपनी शिकायत; भ्रामक विज्ञापनों पर लगेगी रोक

पटना

आयुर्वेदिक, यूनानी एवं होमियोपैथी (आयुष) से जुड़ी दवाओं के विपरीत परिणामों व इन दवाओं से जुड़ीं कोई शिकायत हो तो पेरिफेरल फार्मकोविजिलेंस सेंटर (पीपीवीसी) में दर्ज करा सकते हैं। इन शिकायतों के आधार पर केंद्र सरकार संबंधित दवा की गुणवत्ता की जांच कर निर्माता कंपनियों को सुधार करने का निर्देश देगी। बिहार में अबतक आयुष से जुड़ी दवाओं से संबंधित शिकायत दर्ज कराने के लिए कोई उपयुक्त सरकारी प्लेटफॉर्म नहीं था।

अब देसी चिकित्सा से जुड़ी दवाओं की गुणवत्ता पर नजर रखी जा सकेगी। केंद्र सरकार ने देशभर में 75 से ज्यादा पेरिफेरल फार्मकोविजिलेंस सेंटर की स्थापना की है। पटना के पीपीवीसी को इंटरमीडिएरी फार्मको विजिलेंस सेंटर (आईपीएवीसी) से संबंद्ध किया गया है। देशभर में पांच आईपीएवीसी स्थापित किए गए है।

राजकीय आयुर्वेदिक कॉलेज, पटना के प्राचार्य डॉ. संपूर्णा नंद तिवारी के अनुसार प्राय: यह देखा जाता है कि आयुष के क्षेत्र में कार्य करने वाली विभिन्न कंपनियां अपनी दवाओं के प्रचार-प्रसार हेतु ऐसे विज्ञापनों का प्रयोग करती हैं जो भ्रामक एवं कानून सम्मत नहीं होती हैं। इस केंद्र की स्थापना के बाद आयुर्वेदिक, यूनानी एवं होमियोपैथी दवाओं के सजावटी विज्ञापनों का भी राज खुलेगा।

भ्रामक विज्ञापनों पर लगेगी रोक 

विज्ञापन के माध्यम से दवा विशेष के सेवन से लंबाई बढ़ाने या मर्दाना कमजोरी को दूर करने, शक्तिवर्धन करने, तिल हटाने, गोरा बनाने इत्यादि के दावे करने वाली दवाइयों के खिलाफ शिकायतों के आधार पर कार्रवाई की जा सकेगी। कोई भी आयुष चिकित्सक या मरीज पीपीवीसी, पटना में शिकायत करता है तो कार्रवाई होगी।

आधारभूत संरचना की जा रही मजबूत

पटना के राजकीय आयुर्वेदिक चिकित्सा अस्पताल में स्थापित पीपीवीसी की आधारभूत संरचना मजबूत करने की दिशा में कार्रवाई शुरू कर दी गयी है। इस सेंटर का भारत सरकार के निर्देश के आलोक में बैंक खाता खोल दिया गया है। संस्थान के लिए आयुर्वेदिक कॉलेज परिसर में कमरा के आवंटन की प्रक्रिया भी शुरू दी गई है। जल्द ही इसमें बीएएमएस उत्तीर्ण तकनीकी रूप से विशेषज्ञ चिकित्सक की तैनाती की जाएगी।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.