चक्रवाती तूफान के खतरे से अधिकारियों ने किया अलर्ट, घर से बाहर नहीं निकलने की अपील

पटना

चक्रवाती तूफान यास को देखते हुए पटना जिला प्रशासन ने सभी विभागों को अलर्ट रहने को कहा है। डीएम ने बिजली विभाग, नगर निगम, अग्निशमन और वन विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिया है कि 30 मई तक सतर्क रहें। इस दौरान तूफान के कारण पटना जिले में तेज हवा, वज्रपात, पेड़ों का टूटना, जलजमाव और विद्युत आपूर्ति बाधित हो सकती है।

डीएम डॉ. चंद्रशेखर सिंह द्वारा जारी पत्र में कहा गया है कि जयप्रकाश नारायण अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा स्थित मौसम विज्ञान केंद्र द्वारा जानकारी दी गई है कि पटना में चक्रवाती तूफान जो बंगाल की खाड़ी से उत्पन्न हो रहा है, इसका प्रभाव जिले में 26 मई से 30 मई के बीच रह सकता है।

तूफान के कारण भारी बारिश, तेज हवा, बज्रपात से जलजमाव व विद्युत आपूर्ति में बाधा हो सकती है। इसीलिए डीएम ने नगर निगम के अधिकारियों को निर्देश दिया है कि संप हाउस को 24 घंटे चालू रखें। यदि तूफान या भारी बारिश के कारण बिजली की आपूर्ति बाधित हो जाती है, तो ऐसी स्थिति में सभी जगहों पर जेनेरेटर की सुविधा रखें। ताकि जलजमाव की स्थिति में पटना शहर से जल की निकासी की जा सके।

उन्होंने बिजली विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिया है कि तेज हवा के कारण बिजली के खंभे और तार टूट सकते हैं। ऐसी स्थिति में अपने स्तर से कर्मियों एवं अधिकारियों की तैनाती करें, ताकि विद्युत आपूर्ति को तुरंत ठीक किया जा सके। नगर निगम और वन विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिया है कि यदि तेज हवा के कारण सड़क या अन्य जगहों पर पेड़ गिर जाते हैं तो ऐसी स्थिति में उसे तत्काल हटाने के लिए व्यवस्था रखें।

पटना शहर में 9 बड़े नाले हैं, इनसे पानी की निकासी नियमित हो, इसीलिए सभी जगहों पर नगर निगम के कर्मचारियों की तैनाती करने को कहा है। डीएम ने लोगों से अपील की है कि चक्रवात को देखते हुए घरों से नहीं निकलें, क्योंकि इस दौरान हादसा हो सकता है। खासकर बच्चों, बुजुर्ग और महिलाओं को कदापि घर से नहीं निकलने दें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.