January 30, 2023

बंगाल की खाड़ी में आ रहा साल का पहला चक्रवाती तूफान ‘असनी’, जानिए कैसे पड़ता है तूफान का नाम?

कोलकाता

बंगाल की खाड़ी के ऊपर निम्न दवाब का क्षेत्र बनने की वजह से 21 और 22 मार्च को अंडमान और निकोबार द्वीप समूह में च्रकवाती तूफान आ सकता है। साल 2022 के इस पहले चक्रवाती तूफान का नाम असनी है। मौसम विभाग के मुताबिक चक्रवाती तूफान असनी दक्षिण-पश्चिमी हिंद महासागर में बन रहा है जो उत्तर-पश्चिमी दिशा में बढ़ते हुए अंडमान-निकोबार द्वीप समूह की तरफ आएगा।

नियमों के मुताबिक इस चक्रवाती तूफान का नाम श्रीलंका ने दिया है। मौसम विभाग के मुताबिक गुरुवार और शुक्रवार को बंगाल की खाड़ी के दक्षिण-पूर्वी हिस्से और उससे सटे दक्षिण अंडमान सागर में तेज लहरे उठेगी। मौसम विभाग ने मछुआरों को सलाह दी है कि वो बुधवार तक इन समुंद्री इकालों में मछली पकड़ने ना जाएं। मौसम विभाग के मुताबिक शनिवार और रविवार को अंडमान और निकोबार द्वीप समूह में करीब 90 किलोमीटर की रफ्तार से हवाएं चलेगी। चक्रवाती तूफान असनी कितना खतरनाक होगा और किन इलाकों में कितना तबाही मचाएगा इस बारे में मौसम विभाग साफ तौर से कुछ नहीं कह रहा है।

कैसे पड़ता है तूफान का नाम?

आप लोगों के मन में भी सवाल आता होगा कि इन तूफानों का नाम आखिर पड़ता कैसे है? आपको बता दें कि संयुक्त राष्ट्र की एक संस्था है. नाम है कोनॉमिक एंड सोशल कमीशन फॉर एशिया एंड पैसिफिक (ESCAP)। इस संस्था के 13 सदस्य देश हैं जिनमें  भारत, बांग्लादेश, म्यांमार, पाकिस्तान, मालदीव, ओमान, श्रीलंका, थाईलैंड, ईरान, कतर, सऊदी अरब, संयुक्त अरब अमीरात और यमन शामिल हैं।  हर देश एल्फाबेटिकल आधार पर अगले क्षेत्र में बनने वाले तूफान का नाम रखते हैं। इसलिए इस बार श्रीलंका ने इस तूफान का नाम असनी रखा है। हालांकि सभी सदस्य देश आपस में मिलकर पहले से ही अगले तूफान का नाम तय कर देते हैं।

 

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.