February 8, 2023

बिहार में अजब चोरी की गजब कहानी: बिजली घर में चोरी, फिर वही चोर डकैत बनकर आए, कहा-कुछ सामान रह गया था, ले जा रहा हूं

भागलपुर

भागलपुर जिले के बड़हिया के विद्युत केंद्र में अजब चोरी की गजब कहानी सामने आई है। हुआ यूं कि 28 जनवरी शुक्रवार की रात यहां चोरी हुई। विभाग के अधिकारियों ने पुलिस को सूचना दी कि 17 लाख से अधिक के सामान की चोरी हो गई। जांच-पड़ताल चल ही रही थी कि वही चोर सोमवार की रात डकैत बनकर आ धमके। वहां मौजूद बिजलीकर्मियों को बंधक बनाकर कहा कि सारा सामान हमलोग नहीं ले गए थे। कुछ सामान रह गया है। फिर बाकी के सामान भी जबरन उठाकर ले गए। चर्चा है कि चोर 80 फीसदी सामान ले गए थे। एफआईआर सौ फीसदी सामान चोरी की करा दी गई। बाद में डकैत बनकर आए आरोपी बाकी के 20 फीसदी सामान भी ले गए।

बताया गया कि 28 जनवरी को सब स्टेशन में उपयोग से बाहर रहे 3.15 एमवीए के ट्रांसफार्मर से दो हजार से अधिक लीटर बिजली के तेल समेत 80 प्रतिशत कीमती तांबे के क्वॉयल की चोरी कर ली गई थी। 20 प्रतिशत हिस्सा परिसर के ही ढक्कन बंद नाले में रखा रह गया था। विभाग के जेई द्वारा पिछली बार 17 लाख से अधिक की संपत्ति चोरी को लेकर मामला दर्ज कराया गया था। इस मामले का अनुसंधान चल ही रहा था कि यहां दूसरी वारदात हो गई।

कर्मियों को बंधक बना दिया घटना को अंजाम

जानकारी के अनुसार, सोमवार की रात एसबीओ (बटन परिचालक) सुप्रिया कुमारी और सहायक शिवशंकर सिंह ड्यूटी पर थे। मध्य रात 11:45 बजे आधा दर्जन की संख्या में नकाबपोश सब स्टेशन परिसर में घुसे तथा इधर-उधर छानबीन करते हुए कंट्रोल कक्ष में प्रवेश किया। एसबीओ द्वारा पूछे जाने पर नकाबपोशों ने कहा कि ‘नाले में रहा मेरा माल कहां हैं’। ऐसा कहते हुए ताला बंद कमरे की चाबी मांगी। पुलिस द्वारा ताला बंद किए जाने की जानकारी देते हुए चाबी पुलिस के पास ही होने की बात कर्मियों ने कही। तब बदमाशों ने दरवाजे पर लगे ताले को तोड़ दिया। सहायक शिवशंकर सिंह ने आपत्ति की तो उनके साथ मारपीट भी की गई। दोनों कर्मियों से मोबाइल कब्जे में लेकर बंधक बनाते हुए शेष बचे क्वॉयल के हिस्से की डकैती कर ली गई। इस दौरान दो नकाबपोश कर्मियों के समक्ष खड़े रहे, जबकि अन्य सामान समेटने में लगे रहे।

समय रहते नहीं दिखाई जा सकी सजगता

अपराधियों के परिसर में प्रवेश से पूर्व ही कार्यरत कर्मी अपने किसी करीबी से फोन पर बात कर रहे थे। इसी क्रम में नकाबपोशों से हो रहे वाद-विवाद को और बहस को भांप कर फोन पर दूसरी ओर रहे साथी द्वारा तत्काल इसकी सूचना स्थानीय थाना समेत बिजली विभाग के वरीय पदाधिकारियों को दी गई। सूचना पाकर देर रात मौके पर पहुंचे एसडीओ बिजली विभाग शिव प्रकाश के बाद ही पुलिस बल का सब स्टेशन में आना हो सका। हालांकि जब तक लोग पहुंचे, घटना को अंजाम दिया जा चुका था। कर्मियों की मानें तो घटना को मात्र आधे घंटे (11:45 से 12:15) के बीच अंजाम दिया गया। जबकि एसडीओ और पुलिस बल का आगमन क्रमश: 12:30 और 12:45 बजे पहुंचे। एसडीओ ने अपनी बातों को रखते हुए कहा कि सूचना पाकर अगर ससमय पुलिस तत्परता दिखाती, तो अपराधियों को रंगेहाथ गिरफ्तार किया जा सकता था। थानाध्यक्ष संजय कुमार ने बताया कि चोरी के मामले में अनुसंधान चल रहा है। दूसरे मामले की जानकारी मिली है, मगर आवेदन नहीं मिला है। बुधवार को आवेदन देने की बात कही गई है।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.